क्या आपको पता है कि जींस में छोटी वाली पॉकेट क्यों बनाई जाती है

0
182
views

1. कॉलर के नीचे लगा लूप

जनरली लोग शर्ट को झुलाने के लिए उसका कॉलर कटोरी के जैसा बना देते हैं. या फिर तार पर डाल देते हैं. कॉलर के नीचे कंधे के पास शर्ट में एक लूप होता है. उसमें भी आप अपना शर्ट झूला सकते हैं. इसके अलावा ये एक टाई जैसा भी दिखता है.

 

2. लैपटॉप चार्जर में लगा सिलेंड्रिकल बीड

बहुत लोगों को लगता है कि चार्जर में लगा सिलेंड्रिकल उसकी खूबसूरती बढ़ाने के लिए होता है. पर ऐसा नहीं है. ये मैग्नेटिक बीड होता है. जो दरअसल में इन्डक्टर है. ये हाई फ्रीक्वेंसी नॉइज़ को सर्किट में भेजता है जिसमें चार्जर आपने लगाया है. डिवाइस की अपनी मैग्नेटिक फील्ड होती है, चार्जर वाले तार की अपनी मैग्नेटिक फील्ड होती है. उस चोक का काम उस फील्ड को सही से भेजना होता है ये समझ लो.

Jeans Me Choti wali Poket Kyu Banayi Jatai hai !

3. हवाई जहाज की खिड़की में बने छुटकी सी छेद

प्लेन की खिड़की में जो ग्लास लगा होता है दरअसल वो प्लास्टिक का होता है. दो लेयर प्लास्टिक के लगे होते हैं. ये छुटकु होल आपको खिड़की के नीचे मिलेंगे. जो प्लास्टिक लेयर के बीच में प्रेशर को संतुलित रखता है. जिससे प्लेन सेफ रहता है और हम भी.

4. दो कलर वाला इरेजर

हम सोचते थे कि एक से पेंसिल वाला लिखा मिटाएंगे तो दूसरे से पेन वाला. पर ये सब झूठ बात है. ये मानवता का सबसे बड़ा झूठ है. बचपन का सबसे बड़ा झूठ है. जो प्रोडक्ट बेचने के लिए हमारे दिमाग में डाली गई है. हल्का वाला पेंसिल के हल्के धब्बे और नीला वाला गहरे निशान मिटाने को है.

5. जूते के फीते वाले होल के पास वाले तनिकनी होल

हमको लगता था कि सुदंर लगने के लिए जूता बनाने वाली कंपनी ऐसा करती है. पर ये भी झूठ है. वो इसलिए दिए जाते हैं ताकि जूता आपके पैर में फिट हो जाए. और दौड़ते वक्त आपका एंकल जूते से रगड़ न खाए.

6. चाउमिन वाले करछी में होल

अपन के यहां पूरी तलने वाला करछी अलग होता था और सब्जी बनाने वाला अलग. पूरी वाले में छोटे-छोटे होल्स होते हैं. ताकि तेल कराही में रह जाए और पूरी में कम तेल चिपके. ऐसे ही लोगों को लगता है कि उबले चाउमिन से पानी चुआने के लिए उसमें होल होता है. पर वो तो सारे कस्टमर्स को बराबर चाउमिन सर्व करने के लिए होता है.

7. जीन्स की बड़ी पॉकेट के अंदर वाली छुटकु पॉकेट

हम तो उसमें चिलल्ड़ रखते थे. ताकि खेलते टाइम गिर न जाए. अब लोगों को लगता है कि वो बस फैशन का पार्ट है. पहली दफा 1873 में लेवाइस की जीन्स में ये छुटकु पॉकेट दिखा था. उसके बाद पॉकेट वाली घड़ी फैशन में आई. तो उसे रखने के लिए उसे डिजाइन किया गया था. आज भी हमे दिख जाता है पर पॉकेट वॉच का फैशन ओल्ड हो गया. तो अब यूजलेस ही पड़ा है.

Worn blue denim jeans trousers pocket as texture or background to insert text or design

8. कपड़े के साथ फटान और बटन 

Jeans Me Choti wali Poket Kyu Banayi Jatai hai !

अपने यहां तो शर्ट में ही एक्सट्रा बटन दे देते हैं. टेलर कपड़ों के साथ एक रुमाल पकड़ा देता है. और लोग मानते हैं कि जितने दिन रुमाल चलेगा उतने ही दिन हमार कपड़ा. विदेशों में कपड़े का फटान देते हैं. ताकि पहले ही उसको धुल लो. और देख लो कि टाइड, निरमा और घड़ी कैसे-कैसे और कितना चमत्कार करता है.

9. कलम के खोप्पी पर होल 

Jeans Me Choti wali Poket Kyu Banayi Jatai hai !

हम सोचते थे कि कलम के खोप्पी का छेद बाजा बजाने के लिए दिया रहता है. पर नहीं वो कलम का नाक होता है. सांस लेने के लिए दिया रहता है.

10. जीन्स के पॉकेट पर लगा बटन

हम तो उसको बटन कह देते हैं पर उसका नाम है रिवेट्स. पॉकेट के पास सिलाई बहुत होती है. इसलिए उसे ज्यादा स्ट्रेंथ की जरुरत होती है. और वो बटन उके लिए कॉम्प्लान का काम करता है. और पॉकेट को फटने से बचाता है.

Hindi Me jane :- Jeans Me Choti wali Poket Kyu Banayi Jatai hai ! Jane Jeans Ke baare Me !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here