दीपावली: खुशियों का त्योहार - Essay on Diwali in Hindi

प्रस्तावना:

भारत में दीपावली एक बड़ा और धूमधाम से मनाया जाने वाला त्योहार है। यह त्योहार खुशियों और आनंद का प्रतीक है, जिसे हम परिवार और दोस्तों के साथ मनाते हैं। इस निबंध में, हम दीपावली के त्योहार के बारे में विस्तार से जानेंगे।

Essay on Diwali in Hindi
Diwali Essay in Hindi 

Essay on Diwali in Hindi - दीवावली पर निबंध हिंदी में 

दीपावली का मतलब:

दीपावली का शाब्दिक अर्थ होता है 'दीपों की पंक्ति'। इसे 'फेस्टिवल ऑफ लाइट्स' भी कहते हैं क्योंकि इस त्योहार में बहुत सारी दीपक जलाए जाते हैं। यह त्योहार हिन्दू परंपरागत त्योहारों में से एक है और भारत के विभिन्न हिस्सों में एक धर्मिक और सामाजिक उत्सव के रूप में मनाया जाता है।


दीपावली का महत्व:

दीपावली का महत्व धार्मिक और सामाजिक दोनों ही होता है। धार्मिक दृष्टि से, इसे भगवान श्रीराम के अयोध्या लौटने के दिन के रूप में मनाया जाता है, जब उन्होंने रावण को मारकर सीता को वापस पाया था। इसी दिन लोग अपने घरों को सजाते हैं और दीपक जलाते हैं ताकि भगवान श्रीराम का स्वागत करें।

सामाजिक दृष्टि से, दीपावली एक परिवार के एकत्र होने और एक-दूसरे के साथ समय बिताने का अवसर होता है। लोग अपने परिवार और दोस्तों के साथ मिलकर खाने-पीने का आनंद लेते हैं और खुशियों का त्योहार मनाते हैं।

दीपावली के त्योहार कैसे मनाते हैं:

1. घर की सफाई: दीपावली से पहले, लोग अपने घरों की सफाई करते हैं। घर को सजाने के लिए उन्हें सजाने के लिए खासी ध्यान देते हैं ताकि घर रौशनी से भर जाए।

2. दीपक जलाना: दीपावली के दिन लोग अपने घरों में दीपक जलाते हैं। यह दीपक भगवान के आगमन का प्रतीक होते हैं और घर को रौशनी से भर देते हैं।

3. पुजा और आरती: लोग दीपावली के दिन मां लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा करते हैं और उनकी आरती उतारते हैं।

4. खाने का आनंद: दीपावली के दिन लोग विशेष खाने का आनंद लेते हैं, और अपने परिवार और दोस्तों के साथ विशेष खाने का आनंद लेते हैं।

5. आत्मा-संजीवनी: दीपावली के दिन लोग अपने दोस्तों और परिवार के साथ आत्मा-संजीवनी का प्रतीक करते हैं, जिससे उनका दोस्ताना और साथीता मजबूत होता है।

6. वस्त्र और उपहार: दीपावली के दिन लोग नए वस्त्र पहनते हैं और एक-दूसरे को उपहार देते हैं। यह एक तरह का समाजिक समरसता और भाईचारा प्रकट करता है।

7. दीपावली की सजावट: दीपावली के दिन घरों को खूबसूरती से सजाया जाता है। घर की दीवारों पर अल्पना और रंगों से बने आर्टवर्क देखने को मिलते हैं।

8. पुस्तक पूजन: दीपावली के दिन पुस्तकों की पूजा भी की जाती है, जिससे विद्या का महत्व प्रकट होता है।

9. दीपावली मेला: कई स्थानों पर दीपावली के मौके पर मेले आयोजित किए जाते हैं, जिनमें लोग खाना, खिलौने, और अन्य चीजों का आनंद लेते हैं।

10. दीपावली की अधिक खासियत: इस त्योहार की एक और खासियत है दीवाली की पटाखों की धड़कन। लोग रात में आसमान में फटते हुए पटाखों का आनंद लेते हैं, जिससे आसमान रंगीन होता है।

इन सभी गतिविधियों के साथ, दीपावली हमारे जीवन को खुशियों से भर देता है और हमारे साथीता, समरसता, और धार्मिक भावनाओं को मजबूत करता है। इसका महत्व और महात्म्य हमें हमेशा याद दिलाना चाहिए ताकि हम इसे समर्थन दें और परिवार और समाज के साथ एक सदमा और खुशी भरा दीवाली मना सकें।

समापन:

दीपावली एक ऐसा त्योहार है जो हमारे परिवार और दोस्तों के साथ खुशियों का त्योहार है। इस त्योहार के माध्यम से हम अपने धार्मिक और सामाजिक मूल्यों को सजाकर और मनाकर खुश होते हैं। यह हमारे जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा है और हमें इसे समय समय पर मनाना चाहिए।
Next Post Previous Post
No Comment
Add Comment
comment url